गुरुवार, 19 मार्च 2009

तरह तरह के गांधी


गांधी की गंध में सना हुआ देश है हमारा भारतवर्ष। करीब करीब पिछली एक सदी से यह गांधीमय है। गांधी इसकी पहचान है और गांधी ही इसकी जान है। बिना गांधी के यह देश तो नहीं, हां, देश की कुछ संस्थाएं मरी मरी सी लगती हैं। अब अपनी कांग्रेस को ही लो। जबसे है तबसे गांधी की धोती पकड़े है। धोती मर्दानी से जनानी हो गई पर कांग्रेस ने गांधी की धोती नहीं छोड़ी। धोती पाजामें में तब्दील हो गई तो कांग्रेस ने पाजामे का पांवचा पकड़ लिया। गांधी के प्रति सर्वथा समर्पित है कांग्रेस।
और सिर्फ कांग्रेस ही क्‍यों, आजकल तो भाजपा भी गांधी को गोद में लिए घूम रही है। सत्ता में आई तो गांधीपूजन शुरू कर दिया। मक़तूल की तस्वीर पर हारफूल चढ़ाकर कातिलों की पीढि़यों ने श्रद्धांजलि दी और पाक़साफ हो गए। संतमना गांधी ने अपना क़त्ल भी माफ़ कर दिया और हिन्दुत्व के ठेकेदारों के मजे़ हो गए।
भाजपावाले भी यह तथ्य मान चुके है कि गांधी इस देश का प्रतिपल-चर्चित-व्यक्तित्व है। गांधी के बगैर और कुछ भले हो जाए पर इस देश में राजनीति नहीं हो सकती है। देश की आधी राजनीति गांधी के पक्ष में है और आधी उसके विरोध में। हर बात गांधी से शुरू होकर गांधी पर ही समाप्त होती है। गांधीचर्चा और गांधी देश के लिये अपरिहार्य हैं।
पर लाठी-लंगोटीवाला गांधी तो अब गुज़र गया है। अब वह सिर्फ दफ्तरी दीवारों या गांधीमाला जपनेवालों की दीवारों पर ही है चित्रों की शक्ल में। किताबों में है शब्दों की शक्ल में। रूप बदले हुए बैठा है दंद-फंदी राजनेताओं की कूटनीतिक अक्ल में। अब तो देश में गांधी के कुछ नए संस्करण हैं। पुरानेवाले को तो नई पीढि़यां जानती तक नहीं। हाईस्कूल इण्टर की परीक्षाओं में इंदिरा गांधी को महात्मा गांधी की बहूबेटी बताने का युग है यह।
महात्मा के बाद गांधी नाम से इस देश ने जाना इंदिराकांत फीरोज़ को। वे भी गांधी थे। इस देश को मिले गांधी नंबर दो। वह भलामानस देश के प्रथम प्रधानमंत्री का, नेहरू का दामाद था, पर इस रूप में अपनी पहचान नहीं चाहता था। वह अलग-थलग व्यक्तित्व का धनी था और नेहरू नाम में उसकी कोई ज्यादा दिलचस्पी नहीं थी। नतीजा जो होना था वही हुआ। वक्त की आंधी ने उसके नाम के ‘गांधी’ शब्द को छोड़कर सब कुछ उड़ा दिया।
उस गांधी नाम को जवाहरसुता ने अपने नाम के साथ जोड़ा तो सही, पर वे नेहरू भी बनीं रहीं। बहरहाल वे थीं देश की नम्बर तीन गांधी। गांधी-नेहरू शब्दों का चमत्कार था कि वे बरसों शिखरवासिनी रहीं। कांग्रेस ने उनका पल्लू ऐसा थामा कि कांग्रेस ‘आई’ तो उनकी वजह से और ‘गई’ तो उनकी वजह से।
जवाहरसुता के अपने सुत संजय देश के चौथे गांधी थे जो भारतीय राजनीति पर धूमकेतु बनकर आए, छाए और फिर अचानक एक दिन आकाश उन्हें लील गया। रह जाते तो राजनीति की शक्ल कुछ और होती। उनके बाद संजयप्रिया मेनका संपादक, पशुरक्षक और राजनेता बनकर उभरीं। ये थीं गांधी नंबर पांच। पर उनकी पटरी अपनी सासूमां से नहीं बैठी। नतीजतन गांधी नंबर तीन ने गांधी नंबर पांच को घरनिकाला दे दिया और देश को गांधी नंबर छह थमा दिया। गांधी नंबर छह आकाश में उड़ने वाले ज्येष्ठ इंदिरासुत थे। उन्हें वायुयान छोड़कर धरती पर आना पड़ा। वे आए तो अनमने अनचाहे पर गद्दी उनका इंतजार कर रही थी सो आकर कांग्रेस को तार गए और खुद को देश पर वार गए।
इस बीच गांधी नंबर सात के रूप में देश ने इटली से पधारीं राजीवप्रिया को पहचाना। वे भी बरसों के अज्ञातवास के बाद कांग्रेस को पुचकारने दुलराने लाईं गईं। वे भी चूंकि गांधी थीं सो, आईं और कांग्रेस पर तथा उसके रास्ते देश पर छा गईं। देशी-विदेशी की रार में बेचारी सिंहासन से अब तक तो दूर ही हैं पर उनकी संतति में अलबत्ता देश को इंदिरा-प्रियदर्शिनी दिखाई जाने लगीं। प्रियदर्शिनी प्रियंका राजनीति में उतरतीं उससे पहले वे वढेरा को दिल में उतार बैठीं। आज वे आठवीं गांधी हैं पर दादी की तर्ज़ पर प्रियंका गांधी वढेरा हैं।

उन्हींके लाडले भैया हैं संभावनाओं से भरे गांधी नंबर नौ यानी अपने राहुलबाबा। यही अब कांग्रेस का भविष्य हैं। इनके बाद आते हैं गांधी नंबर दस यानी मेनकासुत वरुणबाबा। इन दिनों इसी दस नंबर गांधी के चर्चेआम हैं।
गांधी नाम के बोलबाले से घबराई भाजपा ने सासपीडि़ता मेनका के लाडले को गले लगाया है। दुश्मन का दुश्मन दोस्त होता है। इसी सिद्धांत ने काम किया है। पीलीभीत से वरुण गांधी भाजपा के उम्मीदवार बने और उन्होंने आते ही आरएसएस ही बाळ ठाकरे तक को खुश कर दिया। धर्मनिरपेक्षों के घर से धर्मसापेक्ष नेता चुरा लिया भाजपा ने। वरुण ऐसे उमड़े, ऐसे गरजे, ऐसे बरसे कि भाजपा को ही पसीने आ गए। वरुण की भाषणी बाढ़ में भाजपा की नाव हिचकोले खा रही है। चुनाव आयोग की कीलें उस नाव में छेद किये जा रही हैं। बहरहाल देश तो इतना ही समझ पाया है कि वह गांधी है और उसे गांधी बनकर ही रहना है। अब वह गांधी भले इधर का गांधी हो या उधर का।

7 टिप्‍पणियां:

रंजना ने कहा…

राजनीति पर लिखते तो बहुत लोग हैं, पर आपका यह व्यंग्यालेख बहुत अधिक प्रभावित कर गया.....
सटीक सार्थक और प्रभावशाली आलेख द्वारा विचारों को झंकृत करने हेतु साधुवाद...

लाजवाब लेखन है आपका..

विष्णु बैरागी ने कहा…

व्‍यंग्‍य के केन्‍्द्र में होता है - जन कल्‍याण और जन के सरोकार तथा व्‍यंग्‍य की वाहक होती है - करुणा। कहना न होगा कि आपका यह आलेख इन दोनों आधारभूत तत्‍वों में इतनी सुन्‍दरता, सघनता और सुगढता से रचा-सना है कि जी से 'अश!अश!!' और जबान से 'वाह! वाह!!' के सिवाय और कुछ नहीं निकलता।

दीर्घावधि के बाद इतना सुन्‍दर व्‍यंग्‍य पढने को मिला। 'मक़तूल की तस्वीर पर हारफूल चढ़ाकर कातिलों की पीढि़यों ने श्रद्धांजलि दी और पाक़साफ हो गए।' जैसे वाक्‍य आसानी से नहीं भुलाए जा सकेंगे।

सवेरे पांच बजे के आसपास आपका यह आलेख पढ रहा हूं। दिन अच्‍छा बीतेगा।

आपको साधुवाद भी और धन्‍यवाद भी।

अजित वडनेरकर ने कहा…

यही कह सकते हैं कि बेहतरीन। विष्णु जी और रंजना जी ने बहुत कुछ कहा।
दिल्ली में जितनी तरह के गाधियों के जितने भी गांधी धाम या स्मारक हैं उनके बाहर इस आलेख को खुत्बे की शक्ल में लगा देना चाहिए...ज्ञानरंजन होगा।

Hitesh Parashar ने कहा…

बहुत सुन्दर! मेरे दिल की बात कह गए आप, और वह भी इतने मजेदार तरीके से|

अब तो हमारे गांधीगिरी गुरु मुन्नाभाई भी कूद गए हैं अखाड़े में|

अब समय आ गया है की हम इन गांधीवादी धोतियों, पजामों, टोपियों को छोड़कर एक नयी पीढ़ी को मौका दें जो इन बड़े नाम के परिवारों में पली बड़ी न हो| ये वो राजनेता होंगे जो जुड़े होंगे हमारी मिट्टी से, अपने विचारों के कारण, अपने युग परिवर्तन के जूनून के कारण राजनीति में आये होंगे, अपने नाम के कारण नहीं|

कौन बनेगा हमारे राष्ट्र का ओबामा जो सारे बुश, क्लिंटन आदि नामों से अलग हटकर होगा?

कविता वाचक्नवी Kavita Vachaknavee ने कहा…

आदरणीय बुधकर जी,

इस सामयिक, व्यंग्यात्मक, विचारणीय लेख के लिए धन्यवाद।

पता नहीं यह देश की गुलाम मानसिकता का दर्शन है, या वंशवाद की प्रजाति होने का !!
‘गाँधी’ ( मो.क.गाँधी) दर्शन की प्रासंगिकता के लुप्त होकर उसके विपर्यय की स्थितियों का लाभ उठा सकने वाला काल मानो जनता व आमजन में भी उस दर्शन/ गुणवत्ता की निरुपादयेता की मानसिकता दिखाता है।

इसका दलगत पक्ष भले जो हो, है यह परिवारवाद की ओछी राजनीति ही; जो बौद्धिक रूप से कुन्द,स्वार्थी,वर्चस्व के भूखे और गुलाम बनाए रखने की वाँछा से बुरी तरह से पीड़ित हैं।

घटना की सच्चाई भले जो हो, परन्तु आश्चर्य है कि कौमें कितनी कायर हैं और पहरुए (?) कितने शातिर।

गाँधी के नाम पर चढ़ी हाँडी के न फूटने की कैसी निश्चिन्तता है यह !!
वाह वाह!
इनके लिए गाँधी कितने प्रासंगिक हैं, रहेंगे।

व्यंग्य सटीक है, राजनीति की पोल पट्टी खोलता है।

पुन: शुभकामनाओं सहित|

cmpershad ने कहा…

महात्मा गांधी के आदर्श तो भाड़ में झोंक दिए गए हैं, अब जो गांधी है वो चापलूस गांधी है और सब उनके इर्दगिर्द सत्ता की लालच में घूम रहे हैं।!

अविनाश वाचस्पति ने कहा…

देश तो गांधीमय हुआ है इसमें किंचित भी चिंता की गुंजायश नहीं है। बिना गांधी चित्र के तो भारतीय करेंसी भी फीका फीका सा अहसास करती है।
धोती हमारे मनों के मैल को धोने के प्रयास में असफल रही है। अब तो वरुण गांधी ने भी हंगामा मचा रखा है। गांधी सदा से आंधी का प्रतीक रहा है। कभी गांधीगिरी की आंधी। इससे पहले आजादी की आंधी। अब वरुणगांधी की आंधी। यह आंधी गर भ्रष्‍टाचार को मिटा सके। नेताओं को विवेकसहित बना सके। तो मैं समझता हूं कि गांधी की सार्थकता सिद्ध होगी परन्‍तु ऐसा होना संभव नहीं है।